Archive for January, 2016

सख्त जन लोक-पाल से ही उत्तर प्रदेश का कल्याण संभव है

January 24, 2016

answertoModiBhakt1

मोदीजी – मुलायमजी, डीएम, विधायक या सांसद को सजा कैसे दिलाएं?

January 24, 2016

बिल्थरारोड विकाश मंच, बलिया, उत्तर प्रदेश के सदस्य जब बिल्थरारोड नगर पालिका के घटिया कामों का शिकायत नगर पालिका अध्यक्ष से किये तो वह बोल गया की अन्य अधिकारीयों के साथ डीएम को भी देना पड़ता है १०% कमीशन तब धन आता है, तो अच्छा काम कैसे कराएं बचे-खुचे धन में । यदि कोर्ट से भी जांच कराओगे तो कोर्ट डीएम को ही जांच कराने के लिए कहेगा और जब वो इसमे शामिल है तो तुम लोग हमारा बाल भी बांका नहीं कर सकते । क्षेत्र का विधायक भी यही कहता है । सांसदों ने भी ठीका लेकर कुछ सड़कें बनवाई हैं, लेकिन वह सड़कें चूर-चूर हो गयी हैं और जांच कराने पर अधिकारी बलिया के अच्छे होटल में सांसद के साथ खाते हैं और बैरंग चले जाते हैं । यदि प्रदेश से प्रतिदिन होने वाले लूट को रोक दिया जाय तो प्रदेश के हर व्यक्ति को रुपये २०००/- प्रति माह या प्रदेश के हर गाँव को रूपये ३.५ करोड़ प्रति वर्ष उस लूट के रकम से दिया जा सकता है । अब हम क्या करें? जनता तो भुक्कड़ है, जिसका नमक खाती है उसका अँधा भक्त बन जाती है । राबड़ी देवी भी आपसे ज्यादा भीड़ जुटा लेती हैं और उनके भाषण पर भी जनता खूब तालियां पीटती है तो आप लोग तो उनसे ज्यादे सयाने हैं । एक स्टडी के मुताबिक पिछले ७० सालों में किसी भी पार्टी ने देश या प्रदेश में भ्रष्टाचार रोकने के लिए कोई साहसिक कदम नहीं उठाया और भारत भ्रष्ट देशों की श्रेणी में अग्रसर होता गया।उत्तर प्रदेश में आपकी कतई जरूरत नहीं है, जरूरत है तो सिर्फ सख्त जन लोक-पाल की । आप देश का सिर्फ नमक ही खाते रहेंगें या देश को लूट से बचाकर नमक का हक़ भी कभी अदा करेगें ।https://www.facebook.com/belthararoadvikashmanch/

पूर्ण विवरण के लिए मेरी किताब, उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश में कैसे बदलें, पढ़ें |

उत्तर प्रदेश को धूर्त-मक्कार केजरी की जरूरत है, न की ईमानदार मोदी-मनमोहन की

January 24, 2016

उत्तर प्रदेश में रुपये २०० करोड़ प्रतिदिन से एक साल में करीब ७० हज़ार करोड़ रुपये लूटा जाता है । अतः इस लूट से उत्तर प्रदेश के करीब २० हज़ार गावों के प्रत्येक गाँव को अनुमानतः ३.५ करोड़ अधिक धन राशि प्रतिवर्ष मिल सकती है। एक स्टडी के मुताबिक पिछले ७० सालों में किसी भी पार्टी ने देश या प्रदेश में भ्रष्टाचार रोकने के लिए कोई साहसिक कदम नहीं उठाया और भारत भ्रष्ट देशों की श्रेणी में अग्रसर होता गया। मोदीजी से उम्मीद करने वालों को मालूम नहीं की उन्होंने गुजरात में ऐसा कोई कदम नहीं उठाया की गुजरात को भ्रष्टाचारमुक्त बना सकें। एक यू-ट्यूब पर न्यूज़ के मुताबिक केजरी और अन्नाजी एक वर्ष में ८०% भ्रष्टाचार दूर करने की तकनीकी (know how) बताने के लिए मोदीजी से मिलना चाहते हैं और देश के भविष्य के खातिर मोदीजी को अपना ईगो त्यागकर इनसे मिल लेना चाहिए | यदि मोदीजी ने मेरे निम्न तीन सुझावों में से एक पर भी अमल किया तो भी भ्रष्टाचार में अवश्य कमी आएगी और मैं भी एक भक्त से उनका अँधा-भक्त बन जाऊँगा –
(१) कमीशन या भ्रष्ट तरीके से कमाई सरकारी नौकरों के सम्पति में ही जुड़ती होगी, अत; इनकी सम्पति अनिवार्य रूप से प्रतिवर्ष सीबीआई से जांच कराकर जब्त कराएं । या
(२) विधि विशेषज्ञों के मुताबिक सख्त जन-लोक पाल से ८०% भ्रष्टाचार कम हो सकता है, अतः इसे कम से कम गुजरात सहित भाजपा शाषित प्रदेशों में लागू करें । या
(३) दिल्ली राज्य द्वारा पारित सख्त जन-लोक पाल को सुप्रीम कोर्ट के राय पर कानून बन जाने दें ।


%d bloggers like this: